Data Types in Java in Hindi

Last Updated on September 6, 2020 by

Data Types in Java in Hindi – Hello दोस्तों rajhindime.in में आपका स्वागत है |

दोस्तों, पिछले पोस्ट Java Identifier in Hindi  – में आपने Java Identifier तथा उसे define करने के नियमों के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की | आज के इस पोस्ट Data Types in Java in Hindi में – आप Data Types तथा Primitive Data Types के बारे में विस्तार से जानेंगे |

Java language में variables का प्रयोग उन information को store करने के लिए किया है, जिनका उपयोग program अपने निर्धारित कार्यो को execute करने के लिए करता है |

Variable और कुछ नहीं बल्कि reserved memory locations होते हैं, जिनका उपयोग values को store करने के लिए किया जाता है | इसका अर्थ यह है कि, जब भी हम कोई variable declare करते हैं ,तो हम memory में values को store करने के लिए कुछ जगह (space) आरक्षित (reserve) करते हैं |

अब हमने memory में जगह तो reserve कर दिया, परन्तु अब सवाल यह आता है कि, कितना जगह reserve करना है ? उसमे कौन सी value store करनी है ? यह कौन decide करेगा ?

जवाब है, Data Type |

Data Types in Java:

Variable के Data type के आधार पर JVM, memory allocate करता है और यह decide करता है कि इस reserved memory में क्या store करना है |

Java Language  में हर एक variable तथा  expression का कुछ न कुछ Data type  जरूर होता  है |

Data type यह निर्धारित (decide) करता है कि, किसी भी variable में जो data store किया गया है, उसकी size तथा value क्या है |

प्रत्येक Data type की size तथा value  क्या है, यह Java में clearly define किया  गया है |

Type compatibility को ध्यान में रखते हुए, Compiler द्वारा  program में लिखे हर एक assignment  को check  किया जाता है | इसी विशेषता के कारण, हम यह कह सकते हैं कि Java यह strongly type programming language है |

Syntax of Data type:

DataTypeName variableName = variableValueAsPerDataType;

Types of Data Types in Java

Java में Data type दो  प्रकार के होते हैं |

Primitive data types: इसमें byte, short, int, long, float, double, boolean तथा char शामिल (include) हैं |

Non-primitive data types: इसमें Classes, interfaces , Arrays तथा String शामिल (include) हैं |

आइए अब हम Primitive data types के बारे में विस्तार से जानें |

Primitive data types in Java

Primitive data types in Java:

यह Java में उपलब्ध most basic data types हैं | ये Java language द्वारा predefined हैं तथा reserve keywords में इनका समावेश है | इनमें कोई additional methods नहीं होते |

Java developer इनका उपयोग program की portability को maintain करने के लिए करते हैं | क्योकि इन Primitive data types की size एक operating system से दूसरे operating system में बदलती नहीं है |

Java में कुल 8 Primitive data types हैं, इनमे से कुछ data type केवल numbers में deal करते हैं , उन्हें Numeric data types कहते हैं | कुछ data type, numbers में deal नहीं करते, उन्हें Non-numeric data types कहते हैं |

Numeric data types में कुछ नंबर्स के decimal point होते हैं जैसे 123.456, 78.001 इस प्रकार के data types, floating point data type कहलाते हैं |

कई बार numbers के decimal point नहीं होते, जैसे 123, 401, 500 उन्हें Integral data type कहते हैं |

Non-numeric data types में char तथा boolean का समावेश है |

boolean तथा char को छोड़कर बाकी सभी Data types, signed data type हैं, क्योकि इन्हें positive तथा negative दोनों में व्यक्त (represent) किया जा सकता है |

जैसे int i = 10; int j = -14; float f = 10.55; float f = -17.55 इत्यादि |

आइए अब एक- एक करके इन सभी 8 Primitive data types in Java के बारे में जानें |

byte:

Java में byte, इस Data Type की size 8 bits है और यह -27 से 27-1 तक की value को hold कर सकता है | अर्थात byte का range -128 से 127 तक है | इसका default value 0 है |

Examples:

byte b = 125;

byte b = 65;

इसका size, int की तुलना में 4 गुना छोटा होता है | इसी कारण, मुख्यतः int की जगह byte का प्रयोग करके, किसी भी large array में space save अर्थात जगह बचाया जाता है |

byte structure

शुरुआत के सबसे पहले bit अर्थात most significant bit को sign bit के नाम से जानते हैं, इसका प्रयोग sign को store करने के लिए करते है | यहाँ 0 का अर्थ है positive number तथा 1 का अर्थ है negative numbers |

Positive numbers को memory space में directly represent किया जाता है जबकि, negative numbers को two’s complement form में represent किया जाता है |

चूँकि byte की range -128 से 127 तक ही है, इसलिए हम इसमें केवल उन्ही value को assign कर सकते है जो -128 तथा 127 के बीच में हो | जैसे byte b = 10,byte b=127, byte b= -126 आदि |

यदि हम byte में ऐसी कोई value assign करते हैं, जो निर्धारित range से बाहर हो जैसे byte b = 128, तब compile time error “ incompatible types : possible lossy conversion from int to byte;  byte b= 128” मिलेगा |

ठीक उसी तरह, जब भी हम कोई non-numeric value किसी भी integral data type में assign करते हैं | जैसे byte b = true, तब भी compile time error “ incompatible types : boolean cannot be converted to a byte; byte b=true” मिलेगा | क्योकि true यह एक boolean value है, जिसे हम कुछ ही समय में जानेंगे |

इसी प्रकार byte b = ”RajHindiMe”, लिखने पर compile time error  “incompatible types : String cannot be converted to a byte; byte b = ”RajHindime” | क्योकि ”RajHindime”यह एक String value है, जिसके बारे में हम आने वाले post में विस्तार से जानेंगे | अभी के लिए, मैं आपको बता दूँ कि हम जो भी चीज़ ” ” के अंदर लिखते है, उस value को Java language, String ही समझता है | जैसे, “Raj”, “123”, “ab23”, “p@ss” इत्यादि |

byte को कहाँ use किया जाता है ?

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि, byte का range तो बहुत ही कम है, फिर इसका उपयोग कहाँ होता होगा, तो मैं आपको बता दूँ कि, अगर हम stream के term में Data को File अथवा Network से handle करना चाहते है तो byte यह एक best choice है |

क्योकि File तथा Network दोनों में ही data को byte के रूप में ही support किया जाता है | FileOutputStream Class में उपलब्ध method write() है जो arguments के रूप में byte[] b को ही support करता है ,न कि int[] i अथवा short[] s को |

short:

यह Java में शायद ही कभी (rarely) उपयोग होने वाला data type है | इसका size 2 bytes अर्थात 16 bits है | short का range -215 से 215 -1 तक अर्थात -32768 से 32767 तक है | इसका भी default value 0 है |

Examples:

short s = 1825;

short s = 6895;

यह 16 bits Processors जैसे 8085, 8086 के लिए best suitable data type है, परन्तु ये सारे processors पूरी तरह पुराने (out dated) हो गए हैं | इसी कारण short data type भी almost out dated हो गया है |

int:

यह Java में सबसे अधिक उपयोग होने वाला data type है | इसका size 4 bytes अर्थात 32 bits है | int का range -231 से 231 -1 तक अर्थात -2147483648 से 2147483647 तक है | इसका भी default value 0 है |

Examples:

int i = 182255;

int i = 646895;

प्रत्येक integral number ( ऐसा number जिसमे decimal point न हो ), उसे Java language में by default, int data type ही consider किया जाता है | प्रत्येक integral number int range में ही होना चाहिए, ऐसा न होने पर हमें तुरंत compile time error “integer number too large” मिलेगा | 

यदि हम int i = 2147483647 लिखें तो कोई error नहीं मिलेगा, क्योकि यह value range के अंदर है |

यदि हम int i = 2147483648 लिखें तो compile time error “integer number too large: 2147483648” मिलेगा, क्योकि यह value range के बाहर है |

long:

कभी कभी int range किसी बड़ी (big) value को hold करने के लिए पर्याप्त (enough) नहीं होता, तब हमें long data type का उपयोग करना चाहिए |

अब आप सोंच रहे होंगे, ऐसी कौन सी big value है, जिसे हम int में store नहीं कर सकते ? आइए इसे उदहारण (example) द्वारा समझे |

Example 1 – जैसे कि आप को शायद पता होगा कि प्रकाश (light) की speed 299792458 meter per second है (Wikipedia के अनुसार) |

यदि हमें यह data store करना हो कि light 1000 दिन में कितनी दूरी तय करेगा ? इस value को store करने के लिए int पर्याप्त नहीं है | यहाँ हमें long का उपयोग करना होगा |

long l = 299792458*60*60*24*1000 (मीटर में)

Example 2- मान लीजिए हमारे पास एक big file है, जिसमें लाखों pages है, हर page में 1000 lines हैं, हर line में 100 charactors हैं |

इस case में अगर हमें यह store करना हो कि, इस big file में कुल कितने characters हैं ,तब हमें lenght() method का प्रयोग करना होगा जो File Class में उपलब्ध है | यहाँ length() method का return type long है न कि int |

क्या आप जानतें हैं कि, ऐसा क्यों है ? क्योकि किसी भी big file में उपलब्ध charactors की संख्या (numbers), int के range से भी ज्यादा हो सकती है, इसीलिए यहाँ lenght() method का return टाइप int की बजाय long है |

long का size 8 bytes अर्थात 64 bits है | इसका range -263 से 263 -1 तक अर्थात – 9223372036854775808 से 9223372036854775807 तक है | इसका भी default value 0 है |

Examples:

long l = 2147483648l;

long l = 6468957895L;

Note: long value के अंत (last) में small अथवा capital L दोनों में से कोई एक होना जरुरी हैं, यदि long के अंदर store की गई value int के range से ज्यादा हो |

अब तक हमने जिन data types के बारे में जाना, वे सभी integral value को represent अथवा store करने के लिए बने हैं | यदि हमें floating point numbers (ऐसा number जिसमे decimal point हो ) को store करना हो तो, हमें floating point data type का उपयोग करना होगा |

floating point data type में दो data types, float तथा double का समावेश है |

float:

float का size 4 bytes अर्थात 32 bits है | इसका range -3.4e38 से 3.4e38 तक अर्थात -3.4*1038 से 3.4*1038 तक है | इसका default value 0.0 है |

Example:

float f = 10.5f;

float f = 155.5F;

Note: float value के अंत (last) में small अथवा capital F दोनों में से कोई एक होना जरुरी हैं |

double:

double का size 8 bytes अर्थात 64 bits है | इसका range -1.7e308 से 1.7e308  तक अर्थात -1.7*10308 से 1.7*10308 तक है | इसका भी default value 0.0 है |

Example:

double d = 107.5;

double d = 1085.5;

अब आपके मन में ये सवाल आ रहा होगा कि कब float use करें और कब double ? क्योकि दोनों ही data type, floating point value को store करने के लिए बने हैं | आइए जानें |

यदि हमें 5 से 6 decimal value तक accuracy चाहिए, तब हमें float का use करना चाहिए | जैसे 452.78451 अथवा 485.489562

यदि हमें 14 से 15 decimal value तक accuracy चाहिए, तब हमें double का use करना चाहिए | जैसे 452.784517185249715 अथवा 485.4895493871589642

double की तुलना में float की value, less accurate होती हैं |

boolean data type:

boolean का size Java Virtual Memory पर निर्भर (depend) होता है  | इसमें range concept application नहीं होता, हालाँकि यह केवल दो values को support करता है, जो कि true अथवा false है | true तथा false दोनों ही Java reserved words में समाविष्ट है | इसका default value, false है |

Example:

boolean b = true;

boolean b = false;

Note: true तथा false दोनों ही small case में है | boolean कभी भी 0 अथवा 1 को support नहीं करता |

उदाहरण के लिए, boolean b = True; boolean b = 0; boolean b = “True”; यह सभी invalid boolean declaration हैं |

char data type in Java:

char का size 2 bytes अर्थात 16 bits है | इसका range 0 से 65535 तक है |

Example:

char ch = ‘A’;

char ch = ‘a’;

old languages जैसे C तथा C++, ये ASCII code पर आधारित(based) हैं | इनमें allowed विभिन्न ASCII code characters जिनकी कुल संख्या 256 से कम अथवा बराबर है | इन 256 characters को represent करने के लिए 8 bits पर्याप्त है, इसलिए old languages में char की size 1 byte है |

परन्तु, Java language Uni-code पर आधरित है | इनमें allowed विभिन्न Uni-code characters जिनकी कुल संख्या 256 से अधिक तथा 65536 से कम अथवा बराबर है | इन सभी characters को represent करने के लिए 8 bits पर्याप्त नहीं है, इसके लिए 16 bits की जरुरत है इसलिए Java languages में char की size 2 bytes है | इसका default value, 0 है | यहाँ 0, खाली जगह (space character) को represent कर रहा है |

Summary of Java primitive data types in Java:

जावा में प्रत्येक primitive data type का एक corresponding Wrapper Class होता है |

Note: null यह किसी भी object reference का default value है, जिसे हम primitive data types पर apply नहीं कर सकते | यदि हम null को किसी भी primitive data type पर apply करते हैं तो, हमें तुरंत compile time error प्राप्त होगा |

Example:

char ch = null; int i = null; float f = null; ये सभी invalid declaration हैं, ऐसा लिखने पर compile time error “incompatible type” प्राप्त होगा |

जानिए, Non-Primitive Data Types in Java के बारे में विस्तार से

Conclusion – आज आपने क्या सीखा

इस post में आपने Primitive Data Types in Java तथा उसके विभिन्न types के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की | आशा है कि, आपको मेरा यह Blog Primitive Data Types in Java in Hindi जरूर पसंद आया होगा |

अगर आप इस post से related कोई सवाल पूँछना चाहते हैं अथवा कोई सुझाव देना चाहते हैं तो comment करके जरूर बताएं, मैं उसका reply जरूर दूँगा |

इस post को अपना कीमती समय देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद् | फिर मिलेंगें |

4 thoughts on “Data Types in Java in Hindi”

  1. bahut hi badhiya hai sir
    “अगर हम stream के term में Data को File अथवा Network से handle करना चाहते है तो byte यह एक best choice है |

    क्योकि File तथा Network दोनों में ही data को byte के रूप में ही support किया जाता है | FileOutputStream Class में उपलब्ध method write() है जो arguments के रूप में byte[] b को ही support करता है ,न कि int[] i अथवा short[] s को |”
    ye bas samajh nahi aaya

    Reply
    • Sabse pahle to Dhanyawan, aapne mere es post ko pasand kiya!!

      rahi baat aap ke prashna ki, FileOutputStream ke bare me hum kisi aur post me vistar se janenge.

      Abhi ke liye etna jan lo ki FileOutputStream yah ek Class hai jiska use, kisi file me data ko likhne ke liye kiya jata hai.

      mann ko aapko F: drive me ek file (jiska naam testout.txt ho) create karke usme kuchh data likhna hai..

      Example:

      import java.io.File;
      import java.io.FileOutputStream;
      import java.io.IOException;

      public class FileOutputStreamDemo {

      public static void main(String[] args) throws IOException {
      FileOutputStream fout = new FileOutputStream(new File(“F:\\testout.txt”));
      String str = “You are reading on RajHindiMe”;
      byte[] b = str.getBytes(); // converting String values to byte as write() method accept it in the form of byte.
      fout.write(b); // used to print data in File

      System.out.println(“‘”+str+”‘ is written in testout.txt, please open and check”);
      }
      }

      Reply

Leave a Comment